तुझसे अच्छे तो जख्म हैं मेरे - Sad Shayari




तुझसे अच्छे तो जख्म हैं मेरे - Sad Shayari 



Tumase-Achchhe-To-Zakhm-Hain-Mere-Sad-Shayari
Tumase Achchhe To Zakhm Hain Mere - Sad Shayari 


🔘
तुझसे अच्छे तो ज़ख्म हैं मेरे, 
उतनी ही तकलीफ देते हैं जितनी बर्दास्त कर सकूँ.

Tumase Achchhe To Zakhm Hain Mere, Utani Hi Taklif Dete Hain Jitani Badast Kar Saku..



 Also Read:  




Post a Comment

0 Comments